http://WWW.NARENDRASINGHVERMA.IN
http://WWW.NARENDRASINGHVERMA.IN

Checking delivery availability...

background-sm
Search
3

Updates found with '4'

Page  1 1

Updates found with '4'

प्रिय साथियों दिनांक 08.02.2018 दिन बृहस्पतिवार को महमूदाबाद में दिव्यांगजनों हेतु विकलांगता परीक्षण शिविर/कैम्प का आयोजन किया गया है। ऐसे दिव्यांगजन जिन्हे कृत्रिम उपकरण जैसे ट्राइसाईकल, व्हीलचेयर, बैशाखी, वाकिंग स्टिक, श्रवण यंत्र आदि की आवश्यकता हो, वे एक रंगीन पासपोर्ट साइज फोटो, दिव्यांगता प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, आय प्रमाण पत्र (मा0 सांसद, मा0 विधायक, ग्राम प्रधान अथवा तहसील द्वारा शहरी क्षेत्र के लिये रुपये 54, 000/- तथा ग्रामीण क्षेत्र के लिये रुपये 46800 से कम) के साथ उक्त शिविर में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करें। परीक्षणोंपरान्त अगले शीविर में आवश्यकतानुसार विकलांगता उपकरण निःशुल्क वितरीत किया जायेगा। वितरण तिथि की सूचना आप सभी को यथोचित माध्यम से बताई जायेगी। आप सभी से निवेदन है कि अपने आस-पास रहने वाले दिव्यांगजनों को इस विकलांगता परीक्षण शिविर/कैम्प के बारे में सूचित करे तथा आवश्यक दस्तावेजों के साथ अपने साथ इस शिविर में लायें, जिससे अपने क्षेत्र के दिव्यांगजन इस परीक्षण शिविर का लाभ पा सके। आप सभी इस परीक्षण शिविर/कैम्प का व्यापक पचार प्रसार करे।
Send Enquiry
Read More
#कृपया_इस_पोस्ट_को_अधिक_से_अधिक_शेयर_करें……..मित्रों, अपने क्षेत्र या प्रदेश के मूक बधिर बच्चों को कॉक्लियर इम्प्लांट सर्जरी के साथ स्पीच थेरेपी द्वारा सुनने व बोलने योग्य बनाया जा सकता है। इसके लिए पात्र रोगी को अली यावर जंग नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पीच एंड हियरिंग डिसएबिलिटीज, मुम्बई की वेबसाइट www.adipcochlearimplant.in पर ऑनलाइन आवेदन करना होगा तथा वेबसाइट से आवेदन फॉर्म डाउनलोड कर आवश्यक पूरक दस्तावेजों के साथ संलग्न कर अली यावर जंग राष्ट्रिय श्रवण विकलांग संस्था, के.सी. मार्ग, बांद्रा , (पच्छिम) रेक्लमेशन, मुम्बई के पते पर पंजीकृत डाक के माध्यम से भेजना होगा। इस सर्जरी के लिये अधिकतम 12 वर्ष की उम्र के केवल वे बच्चे आवेदन कर सकते हैं जिसके पास 40 प्रतिशत का विकलांगता प्रमाण पत्र अथवा पी.डब्यूंलग .डी. अधिनियम के अनुसार निर्धारित प्रमाण पत्र हो। कॉक्लियर इप्पालंट सर्जरी के लिये भारत सरकार द्वारा एडिप योजना के अंतर्गत अनुदान भी दिया जाता है। जिसमें 15000 प्रति माह तक की आय वाले परिवार के मूक बधिर बच्चों को कॉक्लिकर इम्प्लांट सर्जरी का 6 लाख रुपए पूर्ण अनुदान दिया जाता है तथा रुपए 15001 - 20000 प्रति माह आय तक के परिवार के बच्चों को सर्जरी का 50 प्रतिशत का अनुदान दिया जाता है। एडिप योजना के अंर्तगत कोक्लियर इम्पान्ट सर्जरी उ0प्र0 के निम्न संस्थाओं या अस्तपतालों में होती है –1. संजय गाँधी पोस्ट ग्रेडुएट इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस, लखनऊ2. किंग जार्ज मेडिकल यूनवर्सिटी, लखनऊ3. इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस, बी0एच0यू0, वाराणसी4. मेडिकल कालेज, कानपुर5. पुष्पांजलि क्रासलेय हास्पिटल, गाजियाबाद6. विनायक कोस्मेटिक सेन्टर, लखनऊ7. डा. एस.एन. मेहरोत्रा ई0एन0टी0 फाउण्डेशन, कानपुर8. हैरिटेज हास्पिटल, वाराणसी9. मरियमपुर हास्पिटल, शास्त्री नगर, कानपुर, 10. लोकप्रिय हास्पिटल, सम्राट पैलेट, मेरठआनलाइन आवेदन से पूर्व पात्र रोगी के पास जन्म प्रमाण पत्र, जाति प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, विकलांगता प्रमाण पत्र, Hearing evaluation reports (Audiogram/ABR/IA/OAE/Other), Psychological Evaluation Report, Medical evaluation report (ENT/Neurologist/Pediatrician/Registered Medical Professional) आदि आवश्यक प्रमाण पत्र / रिपोर्ट होना अनिवार्य है । मित्रों यदि आपके आस पास कोई मूक बधिर दिव्यांग बच्चा हो तो उसके परिवार तक इस सूचना को अवश्य पहुचाये, जिससे दिव्यांग बच्चों व उनके परिवार को मदद मिल सके । आपकी थोड़ी सी मेहनत किसी मासूम की जिन्दगी सँवार सकती है। अतः आप सभी मित्रों से विनम्र निवेदन है कि इस जानकारी को अधिक से अधिक फैलाये ।आपकानरेन्द्र सिंह वर्माविधायक, महमूदाबाद
Send Enquiry
Read More
#बेटी_बचाओ_बेटी_पढ़ाओ, #सुकन्या_स्मृद्धि, #महिला_शशक्तिकरण आदि जैसे गम्भीर विषयों पर बात करने वाली प्रदेश की वर्तमान सरकार को आखिर हो क्या गया है, कि प्रदेश की बेरोजगार महिला अभ्यर्थियों पर लाठीचार्ज कर पुलिस हिरासत मे लेना पड़ा। कल लखनऊ में भाजपा मुख्यालय पर अपनी नियुक्ति की मांग कर रहे सहायक अध्यापक 12460 भर्ती प्रकिया के अभ्यर्थियों पर शासन द्वारा लाठीचार्ज कर जेल भेजने की घटना अत्यन्त निन्दनीय है, खास कर जो अत्याचार महिला अभ्यर्थियों पर किया गया वह अत्यंत अशोभनीय एवं शर्मनाक है। अपनी हक की आवाज उठाने वाले इन पढ़े लिखे युवाओं जिसमे अधिकांश लड़कियां थी, को प्रशासन द्वारा बंदी बना कर हिरासत में रखना तथा उनके साथ बर्बरतापूर्ण व्यवहार करना कहाँ तक न्यायुचित है। यह घटना वर्तमान सरकार की नाकामयाबी की परिचायक है। क्या देश का युवा अपने हक की आवाज़ भी नही उठा सकता है। मैं इन युवाओं के साथ हूँ तथा प्रदेश सरकार से मांग करता हूँ कि इस घटना की निष्पक्ष जांच कर दोषियों के खिलाफ उचित कार्यवाही की जाए तथा सहायक अध्यापक 12460 भर्ती प्रकिया को शीघ्रताशीघ्र पूर्ण कर अभ्यर्थियों को जल्द से जल्द नियुक्ति दी जाए।
Send Enquiry
Read More
मृत्यु तो सत्य है किन्तु कब, कहाँ और कैसे मृत्यु हो जायेगी, यह किसी को नही पता। ऐसे ही घटना महमूदाबाद में प्रकाश में आयी है। मेरे क्षेत्र के विकास खण्ड पहला के ग्राम शिवपुरी रायपुर निवासी इन्द्रसेन भार्गव पुत्र रामकेवल, उम्र 35 वर्ष जो पिछले माह परिवार के जीविकोपार्जन हेतु केरल प्रदेश के कोत्याम थाना क्षेत्र वल्लीकुन्नम स्थित प्लास्टिक फैक्ट्री में मजदूरी करने गये थे। वहाँ किसान इन्द्रसेन की 24 फरवरी को संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु हो गयी। उनकी मृत्यु की सूचना मिलते ही उनके गाँव पहुँचकर शोक संवेदना व्यक्त की तथा परिजनों से मिलकर उनको हरसम्भव मदद का भरोसा दिलाया। साथ ही भारत सरकार से माँग की, कि मृतक अल्प किसान की मृत्यु की उच्च स्तरीय कमेटी से जांच करायी जाये तथा मृतक के परिजनों को उचित मुआवजा देने हेतु उत्तर प्रदेश या केरल सरकार को निर्देश दिया जाये। साथ ही यदि मृत्यु का कारण हत्या हो तो दोषियों के विरुद्ध उचित कार्यवाही भी की जाये। चूँकि मृतक किसान इन्द्रसेन मूलतः उ0प्र0 का निवासी है तथा उसके पास ग्राम शिवपुर रायपुर में लगभग 1 बीघा कृषि योग्य भूमि है इसलिये एक जनप्रतिनिधि के होने के नाते मैने उत्तर प्रदेश सरकार से यह भी मांग करता हूँ कि मृतक के परिजनों को सरकार द्वारा किसान दुर्घटना बीमा व अन्य लाभ भी दिया जाये।
Send Enquiry
Read More
साथियों, उत्तर प्रदेश में नई सरकार को गठित हुए एक वर्ष पूर्ण हो गये। इस दौरान हमने क्या खोया और क्या पाया ये आपसे छिपा नही है। वर्तमान सरकार द्वारा विगत एक वर्ष में दावे तो बड़े-बड़े किए गए लेकिन आज जमींनी हकीकत पर उनका एक भी दावा नहीं ठहर सका है। सरकार ने प्रदेश की सड़को को पूर्णतया गड्ढा मुक्त करने का फैसला लिया था। आज आप महमूदाबाद की सड़को का हाल देख कर कह सकते है कि महमूदाबाद की सड़के कितनी बदहाल स्थिति में हैं। मैने जिन सड़को को मा0 अखिलेश जी के कार्यकाल में स्वीकृत कराकर निर्माण प्रारम्भ करवा था, आज वही सड़के सरकार की उपेक्षा का शिकार है। महमूदाबाद – तम्बौर मार्ग, महमूदाबाद- सिधौली मार्ग आदि प्रमुख सड़के आज भी बदहाल स्थिति में है।मित्रों मेरा सदैव प्रयास रहा कि हमारे क्षेत्र के बच्चों को अच्छी शिक्षा मिले तथा उनका भविष्य उज्जवल हो सके। इसके लिये मैनें अपने मंत्रीत्व काल में कई विद्यालय को स्वीकृत करवा कर निर्माण प्रारम्भ कराया था अधिकांश विद्यालयों को प्रारम्भ भी कराया परन्तु आज भी हमारे क्षेत्र के कई ऐसे विद्यालय है जिनका निर्माण तो पूर्ण हो गया परन्तु वहाँ शिक्षण कार्य आज भी प्रारम्भ नही हो पाया। राज्यकीय मॉडल स्कूल शहरी, राजकीय माडल स्कूल जुडौरा, राज्यकीय माडल स्कूल अकबापुर, राजकीय इण्टर कालेज लैलखुर्द, राजकीय हाइस्कूल बाबूपुर, राजकीय हाईस्कूल भिटकूरा, राजकीय हाईस्कूल विलासपुर, राजकीय हाइस्कूल मरहम्मतनगर इन सभी विद्यालयों में वर्तमान सरकार की उपेक्षा के कारण शिक्षण कार्य प्रारम्भ नहीं हो पाया।महमूदाबाद क्षेत्र की जनता को चिकित्सा के क्षेत्र मे दिक्कतो का सामना न करना पड़े तथा उनको बेहतर चिकित्सीय सुविधा मिल सके इसके लिये मैने अपने मंत्रीत्व काल में कई सी0एच0सी0 व पी0एच0सी0 को स्वीकृत कराकर निर्माण कराया। वर्तमान में पी0एच0सी0 बाबूपुर, शेखपुर बिलौली व चाँदपुर, सी0एच0सी0 मीरानगर, जिनके निर्माण को हुए एक वर्ष से अधिक हो गये परन्तु आज भी ये चिकित्सालय प्रारम्भ नही हो पाये। इन चिकित्सालयों के प्रारम्भ न होने के कारण हमारे ग्रामीण क्षेत्र की जनता चिकित्सीय सेवा से वंचित है। इन चिकित्सालयों को प्रारम्भ कराने हेतु मैं आज भी प्रयासरत हूँ।विद्युत के क्षेत्र में महमूदाबाद वासियों को कठिनाईयों का सामना न करना पड़े मैने कई पावर हाउस को स्वीकृत कराकर निर्माण कराया। अधिकांश पावर हाउस संचालित तो हो गये परन्तु 33/11 के0वी0ए0 पावर हाउस देवरिया शासन आज भी प्रारम्भ नही हो सका। विद्युत व्यवस्था में सुधार का दावा करने वाली सरकार शहरों में 20 से 24 घण्टे तथा ग्रामीण क्षेत्र में 18 घण्टे विद्युत सप्लाई करने का दावा तो करती है परन्तु वर्तमान में महमूदाबाद शहर तथा ग्रामीण क्षेत्र में कितनी विद्युत आपूर्ति आ रही है ये आपको पता है।क्षेत्र के गन्ना किसानों की स्थिति तो अत्यन्त ही दयनीय है। समय से पर्ची न मिलना, चीनी मिलों के यार्ड में पेयजल की व्यवस्था न होना, किसानों के विश्राम की व्यवस्था न होना तथा गन्ना किसानों को फसल का उचित मूल्य न मिलना आदि प्रमुख समस्याओं से हमारे किसान भाई परेशान है। महमूदाबाद चीनी मिल पर वर्तमान सत्र का लगभग 30 करोड़ रूपये तथा विगत सत्र का लगभग रूपये 7.62 करोड़ का आज भी बकाया। आलू किसान तो अलग ही परेशान है। फसल का उचित मूल्य न मिलने के कारण वे तंगहाली में जीवन व्यतीत कर रहे। सरकार किसानों की आय दो गुना करने की बात कर तो रही है परन्तु वर्तमान समय में किसानों की आय कितनी बढ़ी है ये हमारे किसान भाई खुद अनुभव कर रहे हैं। बेरोजगारी के कारण हमारे युवा अलग ही परेशान है। प्रदेश में रोजगार की व्यवस्था न होने के उनको इधर उधर भटकना पड़ता है। सत्ता में आने से पूर्व सरकार द्वारा वादा किया गया था प्रदेश के आँगनबाड़ी कार्यकर्तियों के मानदेय में वृद्धि की जाएगी परन्तु एक साल बीत जाने के बाद भी इस सम्बंध के कुछ नही किया गया। जब उन्होंने अपनी आवाज उठाई तो उनको जेल में बंद किया गया। प्रदेश के शिक्षमित्र के साथ जो सरकार ने किया वो किसी से छिपा नही। हमारे शिक्षमित्र सरकार की कमजोर पैरवी के कारण सुप्रीम कोर्ट में केस हार कर आज मानदेय पर कार्य कर रहे है।मित्रों, महमूदाबाद मेरा है और मै महमूदाबाद का हूँ। मैनें शिक्षित विकसित स्वस्थ्य सुरक्षित महमूदाबाद का सपना देखा और इस सपने को पूर्ण करने के लिये मैं सदैव तत्पर रहा हूँ तथा आगे भी प्रयासरत रहूँगा। साथियों महमूदाबाद के सम्पूर्ण विकास के लिये यदि आपके पास कोई सुझाव हो तो आप मुझे कमेन्ट बॉक्स में मैसेज कर सकते है या आप मुझसे मेरे मो0 8887150951 पर फ़ोन कर अवगत करा सकते है।
Send Enquiry
Read More
Page 1 1